जमशेदपुर एसडीओ की बड़ी कार्रवाई: अवैध बालू, ईंट और गिट्टी का भंडारण पकड़ा, माफियाओं में मचा हड़कंप

धालभूम एसडीओ पारुल सिंह ने एमजीएम थाना क्षेत्र के गोड़गोड़ा इलाके में अवैध रूप से भंडारित 25 हाइवा बालू, 15 हाइवा ईंट और 7 हाइवा गिट्टी जब्त की। इस कार्रवाई के बाद बिल्डिंग मेटेरियल सप्लायर्स में हड़कंप मच गया है। जांच और कार्रवाई जारी है।

Jul 11, 2024 - 16:47
Jul 11, 2024 - 16:58
 0  18
जमशेदपुर एसडीओ की बड़ी कार्रवाई: अवैध बालू, ईंट और गिट्टी का भंडारण पकड़ा, माफियाओं में मचा हड़कंप
जमशेदपुर एसडीओ की बड़ी कार्रवाई: अवैध बालू, ईंट और गिट्टी का भंडारण पकड़ा, माफियाओं में मचा हड़कंप

पूर्वी सिंहभूम जिले के एमजीएम थाना क्षेत्र के गोड़गोड़ा इलाके में धालभूम की एसडीओ पारुल सिंह ने गुरुवार तड़के बड़ी कार्रवाई करते हुए अवैध रूप से भंडारण किए गए 25 हाइवा बालू, 15 हाइवा ईंट और 7 हाइवा गिट्टी जब्त की। इस छापामारी के दौरान एक हाइवा गिट्टी अनलोड करते समय पकड़ा गया, जिसके चालक अशोक कुमार को हिरासत में ले लिया गया है।

अवैध भंडारण का भंडाफोड़

धालभूम एसडीओ पारुल सिंह ने सटीक सूचना पर यह छापामारी की। एमजीएम थाना क्षेत्र के गौड़गोड़ा में एक सीमेंट दुकान की आड़ में बड़े पैमाने पर अवैध रूप से बालू, ईंट और गिट्टी का भंडारण किया जा रहा था। इस कार्रवाई में जब्त किए गए सभी मेटेरियल की कीमत लाखों में बताई जा रही है।

माफियाओं के नाम उजागर

एसडीओ ने बताया कि इस अवैध स्टॉक के पीछे राकेश कुमार और दीपक कुमार का हाथ है। यह दोनों माफिया अवैध रूप से बालू, ईंट और गिट्टी का कारोबार कर रहे थे। छापामारी के बाद से इलाके में बिल्डिंग मेटेरियल सप्लायरों में हड़कंप मचा हुआ है।

कार्रवाई जारी रहेगी

एसडीओ पारुल सिंह ने कहा कि अवैध भंडारण के खिलाफ इस तरह की कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी। फिलहाल जब्त मेटेरियल को कब्जे में लेकर आगे की कार्रवाई की जा रही है। इस कार्रवाई के बाद स्थानीय बिल्डिंग मेटेरियल सप्लायर्स के बीच दहशत का माहौल है।

घटना का विवरण

घटना स्थल: एमजीएम थाना क्षेत्र के गोड़गोड़ा इलाका
जब्त मेटेरियल:

  • बालू: 25 हाइवा
  • ईंट: 15 हाइवा
  • गिट्टी: 7 हाइवा

माफियाओं की पहचान

स्टॉक करने वाले: दीपक कुमार
जब्त गाड़ियों के मालिक: दीपक कुमार उर्फ पेले
जब्त बालू: 10 हाइवा, दो 407 ट्रक
जब्त ईंट: 10 हाइवा
जब्त गिट्टी: 5 हाइवा

एसडीओ पारुल सिंह की इस ताबड़तोड़ कार्रवाई ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि प्रशासनिक अधिकारी अवैध गतिविधियों के खिलाफ सख्त कदम उठाने के लिए तैयार हैं। अवैध भंडारण और माफियाओं के खिलाफ यह कदम एक सकारात्मक संकेत है और इससे अवैध गतिविधियों पर नकेल कसने में मदद मिलेगी।