चाईबासा: सरकारी दुकानों में नकली शराब का गोरखधंधा, 4 मिनी फैक्ट्रियों का भंडाफोड़

चाईबासा में अवैध शराब का कारोबार: सरकारी दुकानों पर नकली शराब की सप्लाई

Jul 8, 2024 - 22:58
 0  11
चाईबासा: सरकारी दुकानों में नकली शराब का गोरखधंधा, 4 मिनी फैक्ट्रियों का भंडाफोड़
चाईबासा में अवैध शराब का कारोबार: सरकारी दुकानों पर नकली शराब की सप्लाई

पश्चिमी सिंहभूम जिले के चाईबासा शहर की सरकारी दुकानों में नकली शराब बेचने के गोरखधंधे का भंडाफोड़ हुआ है। मुफस्सिल थाना क्षेत्र के पाताहातु में 4 मिनी शराब फैक्ट्रियों का पता चला, जहां अवैध तरीके से नकली शराब बनाकर सरकारी शराब की दुकानों पर भेजी जा रही थी।

उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग की मिलीभगत का संदेह

इस पूरे कारोबार में उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग की मिलीभगत भी सामने आ रही है। अवैध शराब के साथ पकड़े गए दो आरोपी चाईबासा शहर के यशोदा चौक के पास स्थित सरकारी शराब की दुकान में कर्मचारी के रूप में काम करते हैं।

मिनी शराब फैक्ट्री का खुलासा

मिनी शराब फैक्ट्री में हर ब्रांड की खाली बोतल, शराब बनाने का केमिकल, शराब के ब्रांड का स्टिकर और झारखंड सरकार की सील बरामद हुई है। यह गोरखधंधा कितने दिनों से चल रहा था, यह बताना मुश्किल है, लेकिन पिछले 3 महीने से भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता इस सिंडिकेट के भंडाफोड़ में लगे हुए थे।

आरोपियों की गिरफ्तारी

सोमवार को दोपहर में पाताहातु पुल के पास मोटरसाइकिल से बोर में बांधकर अवैध नकली शराब लेकर जा रहे दोनों आरोपियों को पकड़ लिया गया। उन्हें पकड़कर उत्पाद विभाग के कार्यालय ले जाया गया।

मिनी फैक्ट्रियों का भंडाफोड़

विभागीय कार्रवाई के बीच पाताहातु में मिनी शराब फैक्ट्री संचालित होने की सूचना मिली। भाजपा के कार्यकर्ता और मुफस्सिल थाना प्रभारी मौके पर पहुंचे, जहां पूछताछ और जांच पड़ताल के बाद 4 मिनी शराब फैक्ट्रियों का भंडाफोड़ हुआ।

फैक्ट्रियों का संचालन

एक मकान में एक फैक्ट्री का संचालन हो रहा था और बाकी तीन मिनी फैक्ट्रियों का संचालन थोड़ी दूरी पर दूसरे मकान में हो रहा था। बरामद शराब को कब्जे में लेकर पुलिस की टीम आगे की कार्रवाई में जुटी हुई है।

                                 पिछले 3 महीने से भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता इस सिंडिकेट के भंडाफोड़ में लगे हुए थे। उनके प्रयासों से ही यह बड़ा खुलासा हो सका है।पुलिस की टीम ने बरामद शराब को कब्जे में लेकर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है। इस मामले में और भी गिरफ्तारी हो सकती है।इस मामले ने चाईबासा की जनता की सुरक्षा पर गंभीर सवाल खड़े कर दिए हैं। नकली शराब से होने वाले नुकसान को देखते हुए पुलिस और प्रशासन को सख्त कदम उठाने की जरूरत है।