नकली सीबीआई अधिकारी ने RPF जवान को धमकाकर पकड़ा

नकली सीबीआई अधिकारी ने RPF जवान को धमकाकर पकड़ा

Jun 27, 2024 - 12:02
Jun 28, 2024 - 00:23
 0  17
नकली सीबीआई अधिकारी ने RPF जवान को धमकाकर पकड़ा
नकली सीबीआई अधिकारी ने RPF जवान को धमकाकर पकड़ा

जमशेदपुर में हाल ही में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया, जिसमें एक नकली सीबीआई अधिकारी ने ट्रेन में RPF जवान को धमकाकर परेशान किया। यह घटना इर्नाकुलम-टाटा एक्सप्रेस ट्रेन की है। इस घटना ने यात्रियों और सुरक्षा कर्मियों के बीच चिंता पैदा कर दी है।

इर्नाकुलम-टाटा एक्सप्रेस ट्रेन में सफर कर रहे यात्रियों ने देखा कि एक व्यक्ति, जो खुद को सीबीआई अधिकारी बता रहा था, यात्रियों के सामान की जांच कर रहा था और उनसे आई कार्ड दिखाने के लिए कह रहा था। यह व्यक्ति सीबीआई अधिकारी का फर्जी पहचान पत्र दिखाकर यात्रियों को डराने का प्रयास कर रहा था।

जांच और गिरफ्तारी

ट्रेन की स्कॉट टीम ने जब इस व्यक्ति के व्यवहार पर संदेह किया, तो उसे पकड़ा और पुलिस को सौंप दिया। जांच में पाया गया कि इस व्यक्ति के पास सीबीआई की कोई भी असली पहचान नहीं थी। आरोपी का असली नाम सरफराज खान है, लेकिन उसने एक फर्जी आईडी बनवाई थी जिसमें वह खुद को गौरव मल्होत्रा बताता था।

आरोपी की पहचान और फर्जीवाड़ा

सरफराज खान, जिसने खुद को गौरव मल्होत्रा के नाम से पेश किया, ने फर्जी पहचान पत्र का उपयोग करके यात्रियों और ट्रेन कर्मियों को धोखा देने का प्रयास किया। यह व्यक्ति यात्रियों के सामान की जांच करने के बहाने उन्हें धमका रहा था और उनसे पैसे वसूलने का प्रयास कर रहा था।

पुलिस की कार्रवाई

पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है और उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी है। इस घटना से यह स्पष्ट होता है कि कैसे फर्जी पहचान पत्र का उपयोग करके लोग कानून का उल्लंघन कर सकते हैं और लोगों को धोखा दे सकते हैं।

सुरक्षा के उपाय

इस प्रकार की घटनाओं से बचने के लिए यात्रियों को सतर्क रहना चाहिए और संदिग्ध व्यक्तियों की जानकारी तुरंत सुरक्षा कर्मियों को देनी चाहिए। साथ ही, रेलवे पुलिस को भी ट्रेन में नियमित जांच और निगरानी बढ़ाने की आवश्यकता है ताकि इस प्रकार की घटनाओं को रोका जा सके।

यह घटना न केवल सुरक्षा के मामले में जागरूकता बढ़ाने का अवसर है, बल्कि यह भी दर्शाती है कि फर्जीवाड़ा और धोखाधड़ी के खिलाफ कठोर कदम उठाने की आवश्यकता है। पुलिस और रेलवे सुरक्षा बल को इस प्रकार की घटनाओं पर कड़ी नजर रखनी चाहिए और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।