सरायकेला में अपहरण का मामला: पुलिस की त्वरित कार्रवाई

इस घटना ने साबित कर दिया कि अपराध चाहे जितना भी गंभीर क्यों न हो, पुलिस की त्वरित और प्रभावी कार्रवाई से उसे रोका जा सकता है। इससे समाज में सुरक्षा और न्याय का विश्वास मजबूत होता है। हमें अपनी पुलिस पर गर्व होना चाहिए जो अपनी जान की परवाह किए बिना हमें सुरक्षित रखने के लिए हमेशा तत्पर रहती है।

Jul 4, 2024 - 16:12
 0  14
सरायकेला में अपहरण का मामला: पुलिस की त्वरित कार्रवाई
सरायकेला में अपहरण का मामला: पुलिस की त्वरित कार्रवाई

जमशेदपुर से सटे सरायकेला जिले के कपाली ओपी पुलिस ने जमशेदपुर के कदमा भाटिया बस्ती निवासी सुनील कुमार प्रसाद को 24 घंटे के भीतर अपहर्ताओं के चंगुल से मुक्त कराया और सकुशल परिजनों को सौंप दिया। यह घटना पुलिस की त्वरित और प्रभावी कार्रवाई का परिणाम है।

अपहरणकर्ताओं की पहचान और गिरफ्तारी

पुलिस ने इस मामले में धीरज बलार, सूरज प्रकाश झा और दिलीप महतो नामक तीन अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार किया। गुरुवार को इन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। पुलिस के अनुसार, यह तीनों आरोपी सुनील कुमार प्रसाद के पुराने दोस्त हैं।     साल 2023 में सुनील कुमार प्रसाद ने जमशेदपुर के मानगो जवाहर नगर रोड नंबर 15 के रहने वाले धीरज बलार से 2 लाख रुपये और मानगो के उलीडीह के रहने वाले दिलीप महतो से 56 हजार रुपये का कर्ज लिया था। दिलीप महतो से लिए गए पैसे का उपयोग सुनील ने अपनी पत्नी को मोबाइल दिलाने के लिए किया था।

            कई महीनों तक पैसे वापस नहीं मिलने के बाद, धीरज बलार और दिलीप महतो ने अपने तीसरे दोस्त सूरज प्रकाश झा के साथ मिलकर सुनील कुमार प्रसाद के अपहरण की योजना बनाई। इस योजना के तहत, उन्होंने सुनील को डोबो ब्रिज पर बुलाया और वहीं से सफेद रंग की इनोवा क्रेटा कार में उसका अपहरण कर लिया।                   
                मंगलवार को तीनों आरोपियों ने सुनील को डोबो ब्रिज बुलाया और वहां से सफेद रंग की इनोवा क्रेटा (जेएच05डीक्यू-3397) में उसका अपहरण कर बालीगुमा के एक गैराज में ले गए। रात होते ही सभी खाना खाने के लिए घाटशिला गये और वहां से वापस आकर एक खाली मैदान में रात गुजारी।

पुलिस की त्वरित कार्रवाई

बुधवार की सुबह, जब तीनों आरोपी नहा-धो रहे थे, पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए उन्हें गिरफ्तार कर लिया और सुनील कुमार प्रसाद को सकुशल बरामद कर लिया। पुलिस ने तीनों के पास से तीन मोबाइल फोन और अपहरण में प्रयुक्त कार भी बरामद की। 
            गुरुवार को पुलिस ने तीनों आरोपियों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया। यह घटना पुलिस की त्वरित और प्रभावी कार्रवाई का एक उत्कृष्ट उदाहरण है, जिसने सुनील कुमार प्रसाद को सकुशल वापस लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

अपराध और न्याय का संतुलन

इस घटना ने समाज में एक बार फिर से यह संदेश दिया कि कानून और व्यवस्था के रखवाले अपराधियों के खिलाफ सख्त कदम उठाने के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं। इससे अपराधियों के मनोबल को कमजोर करने में मदद मिलती है और नागरिकों को सुरक्षा का भरोसा मिलता है। 
                    इस प्रकार की घटनाओं से यह स्पष्ट होता है कि पुलिस और समाज के सहयोग से अपराध को रोका जा सकता है। समाज के हर व्यक्ति को अपनी जिम्मेदारी समझते हुए ऐसे मामलों में सहयोग करना चाहिए ताकि अपराधियों को उनके कृत्यों की सजा मिल सके।