सिरायकेला-चांडिल में हाथियों का कहर: 6 घर जलकर खाक, ग्रामीणों में दहशत

सिरायकेला-चांडिल में हाथियों का कहर: 6 घर जलकर खाक, ग्रामीणों में दहशत

Jun 26, 2024 - 11:25
Jun 26, 2024 - 12:33
 0  16
सिरायकेला-चांडिल में हाथियों का कहर: 6 घर जलकर खाक, ग्रामीणों में दहशत
सिरायकेला-चांडिल में हाथियों का कहर: 6 घर जलकर खाक, ग्रामीणों में दहशत

चांडिल के ग्रामीण इलाके में हाथियों का आतंक: जंगली हाथियों का झुंड और उनका कहर

चांडिल के ग्रामीण इलाकों में पिछले 10-12 दिनों से जंगली हाथियों का झुंड लगातार आतंक मचा रहा है। यह झुंड रात-दिन क्षेत्र में विचरण कर रहा है, और उनके द्वारा की गई तबाही ने ग्रामीणों की नींद उड़ा दी है। हाथियों का यह झुंड न केवल फसलों को बर्बाद कर रहा है बल्कि शॉर्ट सर्किट के कारण कई घरों को भी जलाकर राख कर चुका है।

हाथियों का कहर: लगातार बढ़ती समस्या

ईंचगढ़ और कुकरू प्रखंड में स्थिति

ईंचगढ़ और कुकरू प्रखंड में जंगली हाथियों का आतंक तेजी से बढ़ता जा रहा है। इन इलाकों में हाथियों का विचरण और उनके द्वारा उत्पन्न खतरे ने ग्रामीणों को भारी नुकसान पहुंचाया है। ग्रामीणों का कहना है कि वे हर रात डर के साये में जी रहे हैं, क्योंकि हाथियों का झुंड कभी भी उनके घरों पर हमला कर सकता है।

बनगोड़ा में तबाही

बीती रात कुकडू प्रखंड के औड़िया पंचायत के कुवारी टोला गांव के बनगोड़ा में दो हाथियों ने तबाही मचाई। इन हाथियों ने घरों में रखे अनाज खाने के क्रम में बिजली के तारों से शॉर्ट सर्किट कर दिया, जिससे लगभग छह घर पूरी तरह से जलकर राख हो गए। इस दुर्घटना में विनोद महतो, धरमु महतो, जीतेन्द्र महतो, प्रेमचंद महतो, सुनिल महतो, और मंटु महतो के घर के आवश्यक कागजात, मवेशी, और नगद राशि जलकर राख हो गई।

ग्रामीणों की परेशानियां और वन विभाग से उम्मीदें

मुआवजे की मांग

इस विनाशकारी घटना के बाद, ग्रामीणों ने वन विभाग से जल्द से जल्द मुआवजा देने की मांग की है। उनका कहना है कि हाथियों के हमले से उनका जीवन यापन कठिन हो गया है और वे अब अपनी सुरक्षा के लिए भी चिंतित हैं।

दहशत का माहौल

पिछले 10-12 दिनों से हाथियों का झुंड क्षेत्र में विचरण कर रहा है, जिससे ग्रामीणों में दहशत का माहौल व्याप्त है। हर रात ग्रामीणों को इस बात का डर सताता है कि कहीं हाथियों का झुंड फिर से उनके गांव में न आ जाए और और नुकसान न पहुंचाए।

हाथियों के हमले के कारण और समाधान

हाथियों का भोजन की तलाश

जंगली हाथियों का झुंड अनाज और फसल की तलाश में गांवों की ओर आ रहा है। फसल कटाई के मौसम में यह समस्या और बढ़ जाती है, क्योंकि हाथियों को भोजन की तलाश में गांवों का रुख करना पड़ता है।

वन विभाग की भूमिका

वन विभाग की जिम्मेदारी है कि वे हाथियों के इस आतंक से ग्रामीणों को राहत प्रदान करें। वन विभाग को हाथियों के विचरण पर नजर रखनी चाहिए और ग्रामीणों को सुरक्षित रखने के लिए उचित कदम उठाने चाहिए।

स्थानीय प्रशासन की प्रतिक्रिया

सुरक्षा के उपाय

स्थानीय प्रशासन को हाथियों के आतंक से निपटने के लिए ग्रामीणों को सुरक्षा के उपाय प्रदान करने चाहिए। इसमें सुरक्षा बाड़ लगाने, हाथियों के विचरण को नियंत्रित करने के लिए पेट्रोलिंग बढ़ाने, और ग्रामीणों को हाथियों से बचने के उपायों की जानकारी देने जैसी गतिविधियाँ शामिल होनी चाहिए।

आपदा प्रबंधन

आपदा प्रबंधन के तहत, प्रशासन को आपात स्थिति में त्वरित प्रतिक्रिया देने के लिए तैयार रहना चाहिए। हाथियों के हमले के समय राहत और बचाव कार्य तेजी से किए जाने चाहिए ताकि ग्रामीणों को कम से कम नुकसान हो।

हाथियों के हमले का इतिहास

क्षेत्र में पूर्व के हमले

चांडिल और आसपास के इलाकों में पहले भी हाथियों के हमले हो चुके हैं। ग्रामीणों के अनुसार, हर साल फसल कटाई के समय हाथियों का झुंड गांवों की ओर आता है और तबाही मचाता है।

पूर्व के हमलों के परिणाम

पूर्व के हमलों में भी ग्रामीणों को भारी नुकसान उठाना पड़ा है। उनके घर, फसलें और मवेशी इन हमलों में नष्ट हो चुके हैं। प्रशासन की तरफ से समय पर सहायता नहीं मिलने के कारण, ग्रामीणों की मुश्किलें और बढ़ जाती हैं।

हाथियों के हमले से बचने के उपाय

फसलों की सुरक्षा

ग्रामीणों को अपनी फसलों की सुरक्षा के लिए हाथियों को दूर रखने के उपाय अपनाने चाहिए। इसमें खेतों के चारों ओर मजबूत बाड़ लगाना, मिर्च पाउडर और अन्य प्राकृतिक निवारक उपायों का उपयोग करना शामिल है।

ग्रामीणों की जागरूकता

ग्रामीणों को हाथियों के हमले से बचने के उपायों के बारे में जागरूक करना आवश्यक है। वन विभाग और स्थानीय प्रशासन को मिलकर ग्रामीणों के लिए जागरूकता अभियान चलाने चाहिए, जिसमें उन्हें हाथियों से सुरक्षित रहने के तरीके बताए जाएं।

वन्यजीवों के संरक्षण की आवश्यकता

हाथियों के प्राकृतिक आवास की रक्षा

हाथियों के हमले की समस्या का स्थायी समाधान उनके प्राकृतिक आवास की रक्षा में है। जंगलों का संरक्षण और वन्यजीवों के लिए पर्याप्त भोजन और पानी की व्यवस्था करने से हाथियों को गांवों की ओर आने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

मानव-वन्यजीव संघर्ष का समाधान

मानव-वन्यजीव संघर्ष को हल करने के लिए दीर्घकालिक योजनाएं बनानी चाहिए। इसमें वन्यजीव अभयारण्यों का विस्तार, मानव बस्तियों और वन्यजीवों के बीच बफर जोन का निर्माण, और ग्रामीणों के लिए वैकल्पिक आजीविका के साधन प्रदान करना शामिल हो सकता है।

वन विभाग की भूमिका और जिम्मेदारी

त्वरित कार्रवाई

वन विभाग को हाथियों के हमले की स्थिति में त्वरित कार्रवाई करनी चाहिए। हाथियों के विचरण पर नजर रखना, ग्रामीणों को सचेत करना, और हमले के बाद राहत कार्यों में तेजी लाना उनकी प्राथमिकता होनी चाहिए।

मुआवजा योजना

वन विभाग को हमले के बाद प्रभावित ग्रामीणों को मुआवजा देने की योजना बनानी चाहिए। इसमें क्षतिपूर्ति के लिए त्वरित प्रक्रिया अपनानी चाहिए ताकि ग्रामीणों को जल्द से जल्द राहत मिल सके।

सामाजिक संगठनों की भूमिका

जागरूकता अभियान

सामाजिक संगठनों को ग्रामीणों के बीच जागरूकता फैलाने के लिए अभियान चलाने चाहिए। इसमें उन्हें हाथियों से बचाव के तरीके, सुरक्षा उपायों की जानकारी, और वन्यजीवों के संरक्षण के महत्व के बारे में शिक्षित करना शामिल हो सकता है।

सहायता और समर्थन

हमले के बाद, सामाजिक संगठनों को प्रभावित ग्रामीणों को सहायता और समर्थन प्रदान करना चाहिए। इसमें आर्थिक सहायता, राहत सामग्री, और पुनर्वास की व्यवस्था शामिल हो सकती है।