झारखंड विधानसभा चुनाव 2024: जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा सीट की राजनीति

जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा सीट पर आगामी चुनाव में बहुत ही रोचक और संघर्षपूर्ण स्थिति बन सकती है। चंद्रगुप्त सिंह की एंट्री से मुकाबला त्रिकोणीय हो सकता है, जिसमें सरयू राय, डॉक्टर अजय और चंद्रगुप्त सिंह के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिल सकता है। क्षेत्र की जनता ने अगर चंद्रगुप्त सिंह का समर्थन किया, तो वे आगामी चुनाव में कोई बड़ा उलटफेर कर सकते हैं। आगामी महीनों में इस सीट पर राजनीति की धारा किस ओर मुड़ती है, यह देखना दिलचस्प होगा।

Jul 1, 2024 - 19:34
Jul 1, 2024 - 19:50
 0  44
झारखंड विधानसभा चुनाव 2024: जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा सीट की राजनीति
झारखंड विधानसभा चुनाव 2024: जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा सीट की राजनीति

झारखंड विधानसभा चुनाव 2024 का बिगुल बजने ही वाला है। झारखंड में विधानसभा चुनाव अगले चार महीनों के भीतर हो सकते हैं और इसके लिए आधिकारिक घोषणा का इंतजार किया जा रहा है। जमशेदपुर लोकसभा सीट के अंतर्गत 6 विधानसभा सीटें आती हैं: जमशेदपुर पूर्वी, जमशेदपुर पश्चिमी, पोटका, बहरागोड़ा, घाटशिला और जुगसलाई। इनमें से पोटका, घाटशिला और जुगसलाई सीटें आरक्षित हैं, जबकि जमशेदपुर पूर्वी, जमशेदपुर पश्चिमी और बहरागोड़ा सामान्य वर्ग के लिए हैं।

जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा सीट: वर्तमान विधायक और राजनीतिक परिस्थितियाँ

जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा सीट पर वर्तमान में पूर्व मंत्री और पूर्व भाजपा नेता सरयू राय विधायक हैं। सरयू राय ने 2019 के विधानसभा चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ा और तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास को हराकर यह सीट जीती थी। सरयू राय लगातार पांच बार भाजपा से विधायक रहे हैं, और उनकी राजनीतिक पकड़ इस क्षेत्र में मजबूत मानी जाती है।

वर्तमान में रघुवर दास ओडिशा के राज्यपाल हैं, लेकिन उनकी लोकप्रियता और प्रभाव इस क्षेत्र में आज भी बरकरार है।

मुख्य प्रत्याशी और उनके राजनीतिक समीकरण

I.N.D.I.A गठबंधन से उम्मीदवार: I.N.D.I.A गठबंधन, जिसमें कांग्रेस, झारखंड मुक्ति मोर्चा, राष्ट्रीय जनता दल और आप जैसे दल शामिल हैं, ने डॉक्टर अजय को अपना उम्मीदवार घोषित किया है। डॉक्टर अजय एक मजबूत प्रत्याशी माने जा रहे हैं और गठबंधन की पूरी ताकत उनके पीछे खड़ी है।

पूर्व सांसद डॉ. अजय कुमार की हेमंत सोरेन से मुलाकात, इंडिया गठबंधन को करेंगे मजबूत

एनडीए गठबंधन और चंद्रगुप्त सिंह: एनडीए गठबंधन, जिसमें भाजपा और आजसु शामिल हैं, ने अभी अपने उम्मीदवार की आधिकारिक घोषणा नहीं की है। लेकिन यह तय माना जा रहा है कि यह सीट भाजपा को ही मिलेगी। ऐसी स्थिति में आजसु के केंद्रीय सचिव और जमशेदपुर पूर्वी के कद्दावर नेता चंद्रगुप्त सिंह ने चुनाव लड़ने का मन बना लिया है।

चंद्रगुप्त सिंह की समाज में उच्च लोकप्रियता और स्वीकार्यता उन्हें एक मजबूत प्रत्याशी बनाती है। वे वर्तमान विधायक सरयू राय के धुर विरोधी माने जाते हैं और उनकी रघुवर दास से नजदीकी भी जग जाहिर है।

संभावनाएं और चुनावी परिदृश्य

अगर चंद्रगुप्त सिंह चुनावी मैदान में उतरते हैं तो यह चुनाव बेहद रोचक और संघर्षपूर्ण हो सकता है। एनडीए गठबंधन चंद्रगुप्त सिंह को अपना प्रत्याशी घोषित कर सकता है। अगर ऐसा नहीं भी होता है, तो चंद्रगुप्त सिंह निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर भी चुनाव लड़ सकते हैं।

चंद्रगुप्त सिंह का सूर्य मंदिर कमेटी के मुख्य संरक्षक के रूप में प्रभुत्व और समाज में उनकी मजबूत पकड़ उन्हें एक प्रभावशाली उम्मीदवार बनाती है। उनकी लोकप्रियता और समाज में उनकी स्वीकार्यता से बाकी सभी उम्मीदवारों के लिए चुनौती खड़ी हो सकती है।