क्या वज्रपात से बचा जा सकता है? सरायकेला-खरसावां में 3 की मौत और 9 झुलसे!

सरायकेला-खरसावां के चांडिल थाना क्षेत्र में वज्रपात की चौंकाने वाली घटना, जिसमें 3 लोगों की मौत और 9 लोग झुलस गए हैं। जानिए इस दर्दनाक हादसे की पूरी कहानी और सुरक्षा के उपाय।

Jul 10, 2024 - 20:29
Jul 10, 2024 - 20:39
 0  12
क्या वज्रपात से बचा जा सकता है? सरायकेला-खरसावां में 3 की मौत और 9 झुलसे!
क्या वज्रपात से बचा जा सकता है? सरायकेला-खरसावां में 3 की मौत और 9 झुलसे!

सरायकेला-खरसावां जिले के चांडिल थाना अंतर्गत भादुडीह हाट में बुधवार शाम हुई वज्रपात की घटना में तीन लोगों की मौत हो गई है, जबकि 9 लोग गंभीर रूप से झुलस गए हैं। इनमें एक महिला सहित दो लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है और उन्हें एमजीएम अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मृतकों में हमसादा निवासी सुभद्रा माझी (35), बिजरेश माझी (8) और सुकू मार्डी (28) शामिल हैं। गंभीर रूप से झुलसे लोगों में सुगी मुर्मू (48), इंद्रजीत सिंह (40) और गुरुपद सिंह (35) शामिल हैं। अन्य को मामूली झटके लगे हैं, जिनका स्थानीय स्तर पर इलाज चल रहा है।

मिली जानकारी के अनुसार, सभी चरवाहे थे और भादुडीह हाट में मवेशी चरा रहे थे। इसी दौरान तेज बारिश के बीच वे हाट में ही शरण ले रहे थे, तभी आकाशीय बिजली गिरने से सभी उसकी चपेट में आ गए और यह दर्दनाक हादसा हुआ। घटना की सूचना मिलते ही झारखंड आंदोलनकारी सह समाजसेवी सुखराम हेम्ब्रम एमजीएम अस्पताल पहुंचे और घायलों का हालचाल जाना। उन्होंने चिकित्सकों से घायलों का बेहतर इलाज करने का अनुरोध किया और मृतकों के परिजनों को हर संभव सहयोग का भरोसा दिलाया। इस घटना के बाद पूरे इलाके में शोक की लहर दौड़ गई है।