जादूगोड़ा के उत्क्रमित उच्च विद्यालय में चोरी, चोरी के पीछे क्या रहस्य है?

जादूगोड़ा के उत्क्रमित उच्च विद्यालय में चोरी, चोरी के पीछे क्या रहस्य है?

Jun 24, 2024 - 13:05
Jun 24, 2024 - 13:40
 0  12
जादूगोड़ा के उत्क्रमित उच्च विद्यालय में चोरी, चोरी के पीछे क्या रहस्य है?
जादूगोड़ा के उत्क्रमित उच्च विद्यालय में चोरी

जादूगोड़ा: जादूगोड़ा के उत्क्रमित उच्च विद्यालय में बीती रात चोरों ने ताला और ग्रील का रॉड तोड़कर एक जोड़ा जूता और एक फुटबॉल चुरा लिया। विद्यालय की प्रभारी प्रधानाध्यापिका मुकुल कुमारी ने जादूगोड़ा थाना में लिखित शिकायत दर्ज कराई। यह दूसरी बार है जब स्कूल में चोरी की घटना घटी है। इससे पहले, छह साल पहले स्कूल से सिब्बल पंप का मोटर चुराया गया था और नल टैब भी चोरी हो चुके हैं|

                 चोरों ने स्कूल के ताला और ग्रील का रॉड तोड़कर खेल कक्ष से जूते और फुटबॉल चुराया। यह घटना 22 जून को शनिवार को स्कूल बंद होने के दौरान हुई। दो दिन बाद, जब स्कूल खुला तो चोरी का पता चला। इस मामले को लेकर क्षेत्र की मुखिया अनिता मुर्मू और स्कूल प्रबंधन समिति के अध्यक्ष दिलीप टुडू ने पुलिस प्रशासन से क्षेत्र में पुलिस पेट्रोलिंग बढ़ाने की मांग की है ताकि भविष्य में ऐसी घटनाएं न हो।

पुलिस प्रशासन से अपील

मुखिया अनिता मुर्मू और स्कूल प्रबंधन समिति के अध्यक्ष दिलीप टुडू ने पुलिस प्रशासन से इस मामले को गंभीरता से लेने की अपील की है। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में पुलिस पेट्रोलिंग बढ़ाई जानी चाहिए ताकि स्कूल में रखे लाखों की संपत्ति सुरक्षित रहे। उन्होंने यह भी बताया कि पिछली घटनाओं में चोरों का पता नहीं चल पाया था और यह समस्या अब गंभीर होती जा रही है।

क्षेत्र में सुरक्षा की जरूरत

इस क्षेत्र में बार-बार हो रही चोरी की घटनाओं ने स्कूल प्रबंधन और स्थानीय लोगों को चिंता में डाल दिया है। स्कूल प्रबंधन ने पुलिस से क्षेत्र में सुरक्षा बढ़ाने की मांग की है ताकि बच्चों की शिक्षा में किसी प्रकार की रुकावट न आए और स्कूल की संपत्ति सुरक्षित रहे।

निष्कर्ष

जादूगोड़ा के उत्क्रमित उच्च विद्यालय में लगातार हो रही चोरी की घटनाओं से निपटने के लिए पुलिस प्रशासन को सख्त कदम उठाने की जरूरत है। क्षेत्र में सुरक्षा बढ़ाने से ही स्कूल की संपत्ति और बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सकती है। पुलिस प्रशासन को इन मामलों की जांच में तेजी लानी चाहिए और दोषियों को जल्द से जल्द पकड़ना चाहिए।