जमशेदपुर के बोड़ाम में अधिग्रहित जमीन का मुआवजा नहीं मिलने पर ग्रामीणों का आक्रोश

जमशेदपुर के बोड़ाम में ग्रामीणों ने अधिग्रहित जमीन का मुआवजा नहीं मिलने पर भाजपा नेता विमल बैठा के नेतृत्व में उपायुक्त से मिलकर ज्ञापन सौंपा। ग्रामीण पांच साल से मुआवजे की मांग कर रहे हैं।

Jul 9, 2024 - 13:15
Jul 9, 2024 - 13:20
 0  7
जमशेदपुर के बोड़ाम में अधिग्रहित जमीन का मुआवजा नहीं मिलने पर ग्रामीणों का आक्रोश
जमशेदपुर के बोड़ाम में अधिग्रहित जमीन का मुआवजा नहीं मिलने पर ग्रामीणों का आक्रोश

मशेदपुर के ग्रामीण इलाके बोड़ाम में पांच साल बाद भी अधिग्रहित जमीन का मुआवजा नहीं मिलने से ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है। मंगलवार को ग्रामीण भाजपा नेता विमल बैठा के नेतृत्व में उपायुक्त कार्यालय पहुंचे और ज्ञापन सौंपा।

ग्रामीणों ने बताया कि भादुडीह से बोड़ाम होते हुए सड़क चौड़ीकरण के दौरान उनकी रैयती जमीन अधिग्रहित की गई थी, लेकिन अब तक उन्हें मुआवजा नहीं मिला है। इस मुद्दे को लेकर ग्रामीण लगातार बीडीओ कार्यालय का चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही।

उपायुक्त को सौंपे गए ज्ञापन में अरुण गोप, मधुसुदन महतो, जीतू लाल महतो, आनंद महतो, साबून महतो समेत कई अन्य ग्रामीण उपस्थित थे।

ग्रामीणों ने मांग की है कि उन्हें जल्द से जल्द मुआवजा दिया जाए, ताकि उनकी आर्थिक स्थिति को सुधारा जा सके। विमल बैठा ने कहा, "यह सरकार की जिम्मेदारी है कि वह अधिग्रहित जमीन का उचित मुआवजा ग्रामीणों को प्रदान करे।"

इस संबंध में उपायुक्त ने आश्वासन दिया कि वे इस मामले की जांच करेंगे और उचित कार्रवाई करेंगे। ग्रामीणों की उम्मीद है कि इस बार उन्हें न्याय मिलेगा और उनका मुआवजा जल्द से जल्द जारी किया जाएगा।