गम्हरिया के बुरूडीह में डिग्री कॉलेज निर्माण का विरोध: प्रशासन और ग्रामीणों के बीच समझौते की कोशिश

गम्हरिया के बुरूडीह गांव में डिग्री कॉलेज के निर्माण को लेकर उत्पन्न विवाद का समाधान ग्राम सभा में किया जाएगा। ग्रामीणों की समस्याओं का समाधान करने के लिए प्रशासन और ग्रामीणों के बीच समझौते की कोशिश जारी है। डिग्री कॉलेज का निर्माण ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा के स्तर को ऊंचा उठाने का एक महत्वपूर्ण कदम है, लेकिन इसके लिए सभी पक्षों की सहमति और सहयोग आवश्यक है।

Jun 20, 2024 - 17:55
 0  7
गम्हरिया के बुरूडीह में डिग्री कॉलेज निर्माण का विरोध: प्रशासन और ग्रामीणों के बीच समझौते की कोशिश
गम्हरिया के बुरूडीह में डिग्री कॉलेज निर्माण का विरोध: प्रशासन और ग्रामीणों के बीच समझौते की कोशिश

सरायकेला जिलांतर्गत गम्हरिया प्रखंड के बुरूडीह गांव में प्रस्तावित डिग्री कॉलेज के निर्माण को लेकर ग्रामीणों में असंतोष और विरोध की स्थिति उत्पन्न हो गई है। इस विरोध को समाप्त करने के उद्देश्य से गुरुवार को गम्हरिया सीओ कमल किशोर और प्रखंड 20 सूत्री अध्यक्ष छायाकांत गोराई गांव पहुंचे और ग्रामीणों से वार्ता की।

ग्रामीणों का विरोध और उनके मुद्दे

ग्रामीणों का मानना है कि डिग्री कॉलेज के निर्माण के लिए कोई ग्राम सभा नहीं हुई है, और इस निर्माण से कुछ ग्रामीणों के मकान प्रस्तावित नक्शे की जद में आ रहे हैं। ग्रामीणों की मांग है कि निर्माण कार्य बिना ग्राम सभा के मंजूरी के न हो।

सीओ और प्रखंड अध्यक्ष की बातचीत

सीओ कमल किशोर और छायाकांत गोराई ने ग्रामीणों से बातचीत कर बीच का रास्ता निकालने का प्रयास किया। उन्होंने आश्वासन दिया कि ग्रामीणों की समस्याओं का समाधान ग्राम सभा में किया जाएगा।

ग्राम सभा का महत्व और आगे की योजना

ग्राम सभा को स्थानीय प्रशासन और ग्रामीणों के बीच किसी भी महत्वपूर्ण निर्णय के लिए एक महत्वपूर्ण मंच माना जाता है। ग्राम सभा की बैठक में ही अंतिम निर्णय लिया जाएगा।

ग्रामीणों की राय

कुछ ग्रामीणों ने यह भी सुझाव दिया कि डिग्री कॉलेज गांव के बीच में बने ताकि सभी को इसका लाभ मिल सके।

प्रशासन का दृष्टिकोण

प्रखंड 20 सूत्री कार्यान्वयन समिति के अध्यक्ष छायाकांत गोराई ने बताया कि कोई बड़ा विरोध नहीं है और सभी समस्याओं का समाधान ग्राम सभा में किया जाएगा।

डिग्री कॉलेज का महत्व

डिग्री कॉलेज का निर्माण शिक्षा के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण कदम है, जिससे स्थानीय युवाओं को उच्च शिक्षा का लाभ मिलेगा।

ग्राम सभा के निर्णय की प्रतीक्षा

आगामी रविवार को होने वाली ग्राम सभा में यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या निर्णय लिया जाता है।

ग्राम सभा की प्रक्रिया

ग्राम सभा में सभी ग्रामीणों की उपस्थिति अनिवार्य होती है, जहां वे अपने विचार और समस्याएं प्रस्तुत करते हैं।

विरोध के प्रमुख कारण

  1. बिना ग्राम सभा के निर्माण: ग्रामीणों का मानना है कि कोई भी निर्माण ग्राम सभा की स्वीकृति के बिना नहीं होना चाहिए।
  2. निजी संपत्ति का मुद्दा: कुछ ग्रामीणों के मकान प्रस्तावित नक्शे की जद में आ रहे हैं, जिससे वे असंतुष्ट हैं।
  3. प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण: कुछ ग्रामीणों का मानना है कि डिग्री कॉलेज का निर्माण प्राकृतिक संसाधनों पर विपरीत प्रभाव डाल सकता है।

समाधान के प्रयास

प्रशासन ने ग्रामीणों की समस्याओं को समझते हुए उन्हें भरोसा दिलाया है कि उनकी समस्याओं का समाधान ग्राम सभा में ही किया जाएगा।

ग्राम सभा का निर्णय और उसकी भूमिका

ग्राम सभा का निर्णय इस विवाद को समाप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। ग्रामीणों का विश्वास है कि ग्राम सभा में सभी मुद्दों का समाधान हो जाएगा।

समाज में शिक्षा का महत्व

डिग्री कॉलेज का निर्माण ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा के स्तर को ऊंचा उठाने का एक महत्वपूर्ण प्रयास है।

ग्रामीणों की आशाएं और अपेक्षाएं

ग्रामीणों की आशा है कि ग्राम सभा में उनकी समस्याओं का समाधान होगा और वे डिग्री कॉलेज के निर्माण का समर्थन करेंगे।

आगे की राह

ग्राम सभा के निर्णय के बाद ही यह स्पष्ट हो पाएगा कि डिग्री कॉलेज का निर्माण कब और कैसे होगा।