डुमरिया में 12वीं की छात्रा को सांप ने डंसा, झाड़-फूंक के चक्कर में गयी जान

डुमरिया में 12वीं की छात्रा को सांप ने डंसा, झाड़-फूंक के चक्कर में गयी जान

Jun 20, 2024 - 15:39
 0  4
डुमरिया में 12वीं की छात्रा को सांप ने डंसा, झाड़-फूंक के चक्कर में गयी जान
डुमरिया में 12वीं की छात्रा को सांप ने डंसा, झाड़-फूंक के चक्कर में गयी जान

जमशेदपुर के ग्रामीण इलाके डुमरिया थाना अंतर्गत केंदुआ गिरी टोला की रहने वाली सिनगो सोरेन (17) की सर्पदंश से मौत हो गई। मृतक के पिता सायबा सोरेन ने बताया कि उनकी पुत्री सिनगो सोरेन कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में 12वीं की छात्रा थी।

सिनगो सोरेन की पारिवारिक पृष्ठभूमि

सिनगो के पिता सायबा सोरेन ने बताया कि वह कई दिनों से आस्ताकोवाली पंचायत के कालियाम में एक रिश्तेदार के घर रह रही थी।

घटना का विवरण

बुधवार रात को सिनगो जमीन पर सो रही थी। देर रात, चित्ती सांप ने उसे डंस लिया। सुबह जब उसे बेहोशी की हालत में पाया गया, तो तुरंत सीएचसी डुमरिया ले जाया गया। वहां डॉक्टरों ने जांच के बाद उसे मृत घोषित कर दिया।

झाड़-फूंक का असर

सूचना के मुताबिक, परिजन रातभर उसकी झाड़-फूंक कराते रहे, जिसके कारण जहर पूरे शरीर में फैल गया और उसकी मौत हो गई।

सर्पदंश के बाद चिकित्सा सहायता की आवश्यकता

सर्पदंश के मामलों में तुरंत चिकित्सा सहायता लेना अत्यंत महत्वपूर्ण है। झाड़-फूंक के चक्कर में पड़ने से समय बर्बाद होता है और जहर पूरे शरीर में फैल सकता है, जिससे जान का खतरा बढ़ जाता है।

सर्पदंश के इलाज के उपाय

  1. सर्पदंश के बाद प्राथमिक कदम: तुरंत मरीज को हिलने-डुलने से रोकें और जितना हो सके शांत रखें।
  2. विशेषज्ञ की सलाह: जल्द से जल्द चिकित्सा विशेषज्ञ की सलाह लें और अस्पताल पहुंचें।
  3. घर पर झाड़-फूंक से बचें: झाड़-फूंक के चक्कर में न पड़ें, क्योंकि इससे समय की बर्बादी होती है और जहर का प्रभाव बढ़ सकता है।

समाज में जागरूकता की कमी

ग्रामीण क्षेत्रों में सर्पदंश के मामलों में झाड़-फूंक का प्रचलन अभी भी बहुत अधिक है। इस तरह की पारंपरिक विधियों से मरीज की हालत बिगड़ सकती है।

सर्पदंश से बचने के तरीके

  1. रात को सुरक्षित स्थान पर सोना: जमीन पर सोने से बचें और सुरक्षित स्थान पर सोएं।
  2. रात को लाइट का प्रयोग: रात को लाइट जलाकर रखें ताकि सांप आदि को देखा जा सके।
  3. घर के आसपास साफ-सफाई: घर के आसपास साफ-सफाई रखें और झाड़ियों को काटकर रखें।

सरकार और स्वास्थ्य विभाग की भूमिका

सरकार और स्वास्थ्य विभाग को ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता अभियान चलाने की जरूरत है ताकि लोग सर्पदंश के बाद सही कदम उठा सकें और झाड़-फूंक जैसे पारंपरिक उपायों से बचें।