मंकीपॉक्स : क्या हैं लक्षण और कैसे फैलती है यह बीमारी? | monkeypox kya hai in hindi

मंकीपॉक्स : क्या हैं लक्षण और कैसे फैलती है यह बीमारी?

मंकीपॉक्स : क्या हैं लक्षण और कैसे फैलती है यह बीमारी? | monkeypox kya hai in hindi

मंकीपॉक्स : क्या हैं लक्षण और कैसे फैलती है यह बीमारी?

2020 से दुनिया एक दुर्लभ संक्रमण कोविड-19 रहा है जिसका प्रसार रोकने के लिए दुनिया के सभी संस्थान लगे हुए हैं परंतु उसकी भयावह स्थिति डालना अभी मुश्किल लग रहा है और इसी बीच एक नया दुर्लभ संक्रमण दुनिया को अपनी आगोश में लेता हुआ दिख रहा है जो कि वैज्ञानिकों के लिए चिंता की स्थिति बना रहा है इस बीमा इस संक्रमण का नाम है मंकीपॉक्स |

हालांकि भारत में अभी तक इसके संक्रमण का कोई मामला सामने नहीं आया है लेकिन ब्रिटेन इटली पुर्तगाल स्पेन स्वीडन और अमेरिका के लोग इससे संक्रमित पाए गए हैं कनाडा ऑस्ट्रेलिया और फ्रांस में इस बीमारी के संक्रमित संभावित संक्रमण की जांच कर रहे हैं इससे मृत्यु दर 11% हो सकता है अभी तक मंकीपॉक्स के 120 से अधिक संदिग्ध और पुष्टि किए जा चुके हैं |

मंकीपॉक्स : क्या हैं  | monkeypox kya hai in hindi:

मंकीपॉक्स मानव चेचक के समान एक दुर्लभ वायरस संक्रमण है दुनिया इसके बारे में पहली बार 1958 में शोध के दौरान बंदरों में पाया था मंकीपॉक्स का संक्रमण का पहला मामला 1970 में दर्ज किया गया था यह रोग मुख्य रूप से मध्य और पश्चिम अफ्रीका के उष्णकटिबंधीय वर्षा वन क्षेत्रों में होता है और कभी-कभी यह अन्य क्षेत्रों में पहुंच जाता है बीमारी के लक्षण विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार मंकीपॉक्स आमतौर पर बुखार दाने और गांठ के जरिए उभरता है और इससे कई प्रकार की चिकित्सा जटिलताएं पैदा होती है रोग के लक्षण आमतौर पर 2 से 4 सप्ताह तक दिखते हैं जो अपने आप दूर होते चले जाते हैं मामले गंभीर भी हो सकते हैं हाल के समय में ड्यूदर का अनुपात लगभग 3 से 6% रहा है लेकिन यह 10 से 11% तक हो सकता है |

संक्रमण में वर्तमान प्रसार के दौरान मौत का कोई मामला सामने नहीं आया है संक्रमण का प्रसार कैसे होता है मंकीपॉक्स किसी संक्रमित व्यक्ति या जानवर के निकट संघ के माध्यम से या वायरस से दूषित सामग्री के माध्यम से मनुष्य में फैलता है ऐसा माना जाता है कि यह चूहा चूहा और गिलहरी हो जैसे जानवर से भी फैल सकता है|

यह गांव शरीर के तरल पदार्थ स्वसन बूंदों और दूसरी सामग्री जैसे बिस्तर के माध्यम से फैलता है| यह वायरस चेचक की तुलना में कम संक्रामक है |और कम गंभीर बीमारी का कारण बनता है स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है | कि इनमें से कुछ संक्रमण यौनसंपर्क के माध्यम से संचालित होता है हो सकता है यह संबंध पुरुष और पुरुष महिला और महिला समान WHO के अनुसार यह रोग समलैंगिक या उभय लिंगी लोगों में ज्यादा फैल रहा है | 

मानव शरीर पर क्या होता है असर?

  • जंगली जानवरों के साथ संपर्क में आने से बचें। खासकर बीमार या मृत जानवारों या उनके मांस, रक्त और शरीर के दूसरे हिस्सों से दूरी बनाए रखें।
  • खाने से पहले जानवरों के मांस और खाने की सभी चीजों को अच्छी तरह से पका लें।
  • किसी भी ऐसी चीज के संपर्क में आने से बचें, जो बीमार जानवर के संपर्क में रही हो।
  • संक्रमित मरीजों को दूसरे लोगों से अलग करें, जिन्हें संक्रमण का खतरा हो सकता है।
  • हाथों को बार-बार और अच्छी तरह से धोएं और साफ रखें।

मंकीपॉक्स  वायरस चार स्टेजों में फैलता है जिसमें हर स्टेज पर अलग-अलग लक्षण देखने को मिलते हैं। आइए विस्तार से जानते हैं, इसकी सारी स्टेजों के बारे में।

स्टेज 1- पहली स्टेज पर कोई व्यक्ति अगर संक्रमित होता है तो वह लक्षण महसूस करना शुरू कर देता है। लक्षण अपर रेस्पिरेटरी सिस्टम से जुड़े होते हैं और काफी हद तक बुखार जैसे लगते हैं। पहली स्टेज के लक्षणों में आपको बुखार, शरीर में दर्द और थकान महसूस हो सकती है। 

स्टेज 2- मंकी पॉक्स की दूसरी स्टेज में बुखार जैसे लक्षण तो रहते ही हैं, साथ ही स्किन पर थोड़ी संख्या में कुछ गांठ दिखनी शुरू हो जाती हैं। 

स्टेज 3- मंकी पॉक्स की तीसरी स्टेज पर लिम्फैडेनोपैथी हाथों, पैरों, चेहरे, मुंह या प्राइवेट पार्ट्स पर होने वाले दानों या चकत्ते में बदल सकती है। 

स्टेज 4- मंकी पॉक्स की चौथी यानी आखिरी स्टेज पर ये दाने या चकत्ते उभर कर बडे़ दाने हो जाते हैं या कुछ ऐसे पस्ट्यूल में बदल जाते हैं जिनमें मवाद भरी होती है। 

मंकीपॉक्स के लिए उपचार क्या है? (Treatment of monkeypox kya hai) 

वायरस के संपर्क में आने वाले लोगों को अक्सर चेचक के टीके की कुछ खुराक दी जाती है, क्योंकि इसे मंकीपॉक्स के खिलाफ प्रभावी दिखाया गया है। इसके अलावा वैज्ञानिक एंटीवायरल दवाएं बनाने में भी लगे हुए हैं। यूरोपियन सेंटर फॉर Disease Prevention एंड control ने सभी संदिग्ध रोगियों को अलग करने और उच्च जोखिम वाले लोगों के लिए चेचक के टीकाकरण की सिफारिश की है।

FAQ's

Q: क्या है मंकीपॉक्स वायरस?

Ans:मंकीपॉक्स एक वायरल जूनोटिक बीमारी है जिसमें चिकनपॉक्स जैसे लक्षण कम नैदानिक गंभीरता के साथ होते हैं। इस बीमारी का पहला मामला 1970 में कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में सामने आया था। मंकीपॉक्स आमतौर पर 2 से 4 सप्ताह तक चलने वाले लक्षणों के साथ एक आत्म-सीमित बीमारी है। इस बीमारी के गंभीर मामले बच्चों में ज्यादा पाए जाते हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशा-निर्देशों के अनुसार, सामान्य आबादी में मंकीपॉक्स के मामलों और मौतों का अनुपात ऐतिहासिक रूप से 0-11 प्रतिशत के बीच रहा है और यह छोटे बच्चों में अधिक पाया गया है। हाल के दिनों में केस-टू-डेथ रेशियो लगभग 3-6 फीसदी रहा है।

Q: कैसे फैलता है मंकीपॉक्स ?

Ans: मंकीपॉक्स बीमार व्यक्ति की सांस, पसीने और घाव से सीधे संपर्क और संक्रमित व्यक्ति के दूषित कपड़ों या घाव सामग्री के इन-डायरेक्ट संपर्क में आने से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। इसके अलावा, संक्रमण जानवरों से इंसानों में फैलता है, संक्रमित जानवरों जैसे चूहों, गिलहरियों और बंदरों के काटने या खरोंच से या जंगली जानवरों का मांस खाने से फैलता है।

Q: मंकीपॉक्स  के लक्षण क्या है ?

Ans :लिम्फ नोड्स में सूजन ,बुखार ,सिरदर्द ,शरीर में दर्द, कमजोरी में ज्यादती ठंड लगना या पसीना आना गले में खराश और खांसी |

Q: आपको मंकीपॉक्स वायरस कैसे होता है?

Ans: मंकीपॉक्स किसी ऐसे व्यक्ति के शरीर के तरल पदार्थ या घावों के सीधे संपर्क से फैलता है, जिसे मंकीपॉक्स है, या उन पदार्थों के सीधे संपर्क में है, जो शरीर के तरल पदार्थ या घावों को छूते हैं, जैसे कि कपड़े या लिनेन।

Q: क्या कुत्तों को मंकी पॉक्स हो सकता है?

Ans: हाँ, आपके कुत्ते या बिल्ली को मंकीपॉक्स हो सकता है ।

Q: क्या मंकीपॉक्स चोट करता है?

Ans: कुछ रोगियों को दर्दनाक, सूजे हुए लिम्फ नोड्स का भी अनुभव हो सकता है।

Q: मंकीपॉक्स कैसे फैलता है?

Ans: मंकीपॉक्स मुख्य रूप से संक्रामक घावों, पपड़ी या शरीर के तरल पदार्थ के सीधे संपर्क के माध्यम से लोगों के बीच फैलता है।

निष्कर्ष:

कृपया स्वच्छ वातावरण बनाएं और बीमार लोगों से दूर रहें। क्योंकि वे कई जानलेवा बीमारियों के वाहक हो सकते हैं। मास्क लगाकर सुरक्षित रहें। आपने मंकीपॉक्स : क्या होते हैं लक्षण और कैसे फैलती है यह बीमारी? के बारे में बहुत सी नई बातें सीखी हैं। यदि आपके पास इस पोस्ट से संबंधित कोई प्रश्न है, तो कृपया टिप्पणी पर आएं, हम आपकी बात सुनना पसंद करते हैं और आपकी समस्या का समाधान प्रदान करते हैं।